एसबीएस कॉलेज रुद्रपुर में पारंपरिक भारतीय ज्ञान प्रणाली और पेटेंटिंग विषय में दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का होगा आयोजन 

ख़बर शेयर करें -

 

खबर सच है संवाददाता

रुद्रपुर। इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स सेल एसबीएस राजकीय पीजी कॉलेज रुद्रपुर द्वारा पारंपरिक भारतीय ज्ञान प्रणाली और पेटेंटिंग के विषय में 30 और 31 मार्च 2024 को दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया जा रहा है। पारंपरिक भारतीय ज्ञान प्रणाली और पेटेंटिंग के विषय में गहन अध्ययन करने का उद्देश्य से यह सेमिनार देहरादून के यूकोस्ट के आईपीआर सेल के समर्थन में ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरीकों से संचालित किया जाएगा, जिससे प्रतिभागियों को दोनो प्रकार के सहभागिता के विकल्प प्रदान किए जाएंगे। विभिन्न क्षेत्रों के पेटेंट विशेषज्ञ द्वारा इसमें व्याख्यान के साथ ही अध्यापक एवं शोध छात्र-छात्राएं इसमें अपने शोध पत्र प्रस्तुत करेंगे। सेमिनार के संरक्षक महाविद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर डीसी पंत, सह समन्वय डॉ कमला बोरा, कोऑर्डिनेटर डॉ शलभ गुप्ता एवं सह कोऑर्डिनेटर डॉ भारत पांडे व डॉ चंद्रपाल हैं।

सेमिनार के संयोजक प्रो मनोज पांडेय ने बताया की इस सेमिनार का ध्यान पौराणिक ग्रंथों के माध्यम से दिए जाने वाले ज्ञान के साथ ही हमारी पारंपरिक परिधीय परंपरा एवम प्रैक्टिस का विमर्श भी किया जाएगा। यह दैनिक जीवन में होने वाले पारंपरिक अभ्यासों को भी सम्मिलित करता है जो दूरस्थ गांवों और वन निवासियों में देखे जाते हैं। दुर्भाग्य से इन मूल्यवान पारंपरिक अभ्यासों को अक्सर अनदेखा कर दिया जाता है या समय के साथ मिटते जाते हैं। इसके अलावा, ऐसे कई मामले रह चुके हैं जहां झूठे शोधकर्ता ने पारंपरिक अभ्यासों का पेटेंट ले लिया है, जिससे उनका दुरुपयोग होता है। इस सेमिनार के माध्यम से हम इस तरह के अभ्यासों पर प्रकाश डालने का उद्देश्य रखते हैं और उनमें से कुछ को पेटेंट संरक्षण की आवश्यकता है उन्हें पहचानने का प्रयास करते हैं।  समिति के सदस्य डॉ कमला बोरा ने कहा कि यह सम्मेलन प्रतिभागियों के विचारों और चर्चाओं को एक मंच प्रदान करेगा जिससे, उन्हें पारंपरिक भारतीय भौगोलिक जानकारियां, विभिन्न व्याख्यानों और प्रस्तुतियों के माध्यम से प्राप्त होगी। आईपीएआर सेल के सदस्य डॉ. सलभ गुप्ता ने कहा, “यह सम्मेलन पारंपरिक भारतीय वनस्पति ज्ञान प्रणाली को गहराई से समझने और आधुनिक दुनिया में इसके महत्व को बढ़ावा देने के लिए एक महत्वपूर्ण मंच है। हम भारतीय वनस्पति प्रथाओं का अध्ययन करने के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने का प्रयास करेंगे और उनके सही संरक्षण के लिए सुझाव प्रदान करेंगे। समिति के सदस्य डॉ. भरत पांडेय ने कहा, “यह सेमिनार पारंपरिक भारतीय ज्ञान प्रणाली और पेटेंटिंग के बारे में विचारों को गहराई से समझने और उन्हें बढ़ावा देने का एक महत्वपूर्ण मंच है। हम इस सेमिनार के माध्यम से भारतीय ज्ञान प्रणाली के अभ्यास के महत्व को जागृत करने का प्रयास करेंगे और इसे सही संरक्षण की दिशा में अग्रसर करने के लिए सुझाव देंगे। यह सेमिनार हमारे विचारों को आपसी विचार-विमर्श का मंच प्रदान करेगा और सेमिनार में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को पारंपरिक भारतीय ज्ञान प्रणाली और पेटेंटिंग के विषय में विभिन्न विषयों पर व्याख्यान और प्रस्तुतियों का आनंद लेने का अवसर मिलेगा। इसके साथ ही, हम इस सेमिनार में भाग लेने वाले लोगों को अधिक मोडों में सहयोग करने का भी मौका देंगे जैसे कि चर्चाओं और प्रश्नोत्तर सत्रों के माध्यम से। यह सेमिनार हमारे आदिकालीन ज्ञान और संस्कृति को महत्वपूर्ण बनाने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है। हम इस कार्यशाला का समर्थन करने के लिए यूकॉस्ट देहरादून प्रोफेसर दुर्गेश पंत (डी.जी यूकॉस्ट ) , डॉ उनियाल सर तथा डॉ. हिमांशु गोयल के बहुत आभारी हैं।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 हमसे फेसबुक पर जुड़ने के लिए पेज़ को लाइक करें

👉 ख़बर सच है से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 हमारे पोर्टल में विज्ञापन एवं समाचार के लिए कृपया हमें [email protected] पर ईमेल करें या +91 97195 66787 पर संपर्क करें।

TAGS: A two-day national seminar on traditional Indian knowledge system and patenting will be organized at SBS College Rudrapur rudrapur news SBS collage rudrapur Uttrakhand news

More Stories

उत्तराखण्ड

पतंजलि पैक्ड शहद का नमूना जांच में अधोमानक पाये जाने पर  विक्रेता और डिस्ट्रीब्यूटर पर लगा एक लाख का अर्थदंड

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें –  खबर सच है संवाददाता पिथौरागढ़। करीब चार साल पूर्व डीडीहाट से एकत्र किये पतंजलि के पैक्ड शहद का एक नमूना जांच में अधोमानक पाया गया है। पैक्ड शहद के लिए गए नमूने में सुक्रोज की मात्रा दोगुनी से अधिक मिली है। न्याय निर्णायक अधिकारी ने डीडीहाट के विक्रेता और रामनगर की […]

Read More
उत्तराखण्ड

बाबा तरसेम सिंह हत्याकांड में शामिल आरोपी सतनाम सिह को एसआईटी ने किया लखीमपुर खीरी से गिरफ्तार  

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें – खबर सच है संवाददाता उधमसिंह नगर। बाबा तरसेम सिंह हत्याकांड षड्यंत्र में शामिल आरोपी सतनाम सिह निवासी कुईया महोलिया थाना बन्डा शाहजहांपुर को एसआईटी प्रभारी और एसपी सिटी मनोज कत्याल की अगुवाई में पुलिस टीम ने लखीमपुर खीरी के गोरी फंटा से गिरफ्तार किया है। ऊधम सिंह नगर जनपद के नानकमत्ता […]

Read More
उत्तराखण्ड

पोस्टमार्टम से हुआ खुलासा! गला घोंटने से हुई थी अफसाना की मौत 

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें -खबर सच है संवाददाता हल्द्वानी। 10 अप्रैल को हल्द्वानी के टीपी नगर पुलिस चौकी क्षेत्र नीलांचल कॉलोनी में कमरे में मृत मिली महिला के पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आने के बाद मामले में नया खुलासा होने के बाद पता चला है कि अफसाना को गला घोंटकर मारा गया था। फिलहाल महिला हत्यारोपी पति सौरभ […]

Read More