उर्गम घाटी और जोशीमठ क्षेत्र में पूजा-अर्चना के चलते आयोजकों द्वारा क्षेत्र में लगाया गया आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध 

ख़बर शेयर करें -

 

खबर सच है संवाददाता

चमोली। उत्तराखंड के उर्गम घाटी के डुंग्री, बरोसी और जोशीमठ क्षेत्र के सलूड़ और डुंग्रा गांवों में पूजा-अर्चना तक क्षेत्र वासियों द्वारा आवागमन पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाया गया। इन गांवों का कोई भी व्यक्ति न तो गांव की सीमा से बाहर जा सका और न ही बाहर से कोई इन गांवों में प्रवेश कर सका। दरअसल देवभूमि उत्तराखंड में देवताओं की पूजा करने के लिए हर गांव और क्षेत्र के अपने-अपने अनुष्ठान और रिवाज हैं। 

प्रत्येक 60 साल में होने वाली यह पूजा चार दिन तक चली। पूजा-अर्चना निर्विघ्न चले इसलिए गांवों की सीमाओं पर पूजित चावल व अन्य अनाज से मंत्रों के जरिए लक्ष्मण रेखा खींच दी गई थी। जितने दिन तक पूजा-अर्चना चली उतने दिन तक इन गांवों का कोई भी व्यक्ति न तो गांव की सीमा से बाहर जा सका और न ही बाहर से कोई इन गांवों में प्रवेश कर सका। उर्गम घाटी के डुंग्री, बरोसी और जोशीमठ क्षेत्र के सलूड़ और डुंग्रा गांव के लोग इन दिनों भूमियाल देवता के मंदिर में पूजा अर्चना में मग्न रहें। 10 जनवरी को अपराह्न दो बजे से गांव के भूमियाल देवता के मंदिर में उबेद (मंत्रों से गांव की घेरबाड़) कार्यक्रम शुरू हुआ। पूजा शुरू होने से पहले चारों गांवों की सीमाओं का मंत्रों से बंधन कर दिया गया। इसके बाद वाहनों की आवाजाही पर भी आयोजकों ने पूरी तरह से पाबंदी लगा दी। एक तरह से वहां देवता की पूजा के लिए लॉकडाउन लगाया गया था। यह लॉकडाउन 10 जनवरी से लगा था और 13 जनवरी तक रहा। 14 जनवरी (आज) पूजा-अर्चना संपन्न होने के साथ ही सीमाओं के बंधन खोल दिए जाएंगे। तब गांवों में वाहनों की आवाजाही हो सकेगी। इसके साथ ही स्थानीय ग्रामीण भी इधर-उधर जा सकेंगे, लेकिन तीन दिन तक देवता की पूजा के लिए लॉकडाउन रहा, इतने दिन सभी ग्रामीण देवता के मंदिर में पूजा-अर्चना में तल्लीन रहे। गांव में करीब 60 साल बाद यह कार्यक्रम हुआ है। इसे उबेद उखेल कहते हैं। गांव की खुशहाली, दुख, बीमारी दूर करने, अच्छी फसल, पशुओं और मनुष्यों की अच्छी सेहत के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। भूमियाल देवता की पूजा-अर्चना में कोई विघ्न न आए, इसके लिए गांवों की सीमाओं का मंत्रों से पूजित चावल और अन्य अनाज से बंधन कर लिया जाता है।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 हमसे फेसबुक पर जुड़ने के लिए पेज़ को लाइक करें

👉 ख़बर सच है से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 हमारे पोर्टल में विज्ञापन एवं समाचार के लिए कृपया हमें [email protected] पर ईमेल करें या +91 97195 66787 पर संपर्क करें।

TAGS: chamoli news Due to worship in Urgam Valley and Joshimath area organizers imposed restrictions on movement in the area Uttrakhand news

More Stories

उत्तराखण्ड

कूड़ा वाहन गहरी खाई में गिरने से वाहन सवार एक ब्यक्ति की हुई मौत, चालक घायल  

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें -खबर सच है संवाददाता नैनीताल। यहां नगर पालिका का कूड़ा वाहन राजभवन मार्ग पर डीएसबी परिसर के पास अनियंत्रित होकर करीब 500 फीट गहरी खाई में जा गिरा। वाहन सवार एक व्यक्ति की मौके पर मौत हो गई, जबकि चालक गंभीर रूप से घायल हो गया। वाहन सवार एक अन्य व्यक्ति के […]

Read More
उत्तराखण्ड

ऑनर किलिंग का पुलिस ने पर्दाफाश करते हुए आरोपी माँ-बाप को किया गिरफ्तार  

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें -खबर सच है संवाददाता रूद्रपुर। यहां पुलिस ने आरोपी दंपती को गिरफ्तार करते हुए किशोरी की मौत के रहस्य से पर्दा उठाते हुए स्पष्ट किया है कि किशोरी ने आत्महत्या नहीं बल्कि मां बाप ने प्रेम प्रसंग से नाराज होकर उसकी गला दबाकर हत्या की थी। इसके बाद इस मामले को फांसी लगाकर […]

Read More
उत्तराखण्ड

मुख्य सचिव ने सरकारी स्कूल में दाखिले से मना करने वाले प्रधानाचार्य या शिक्षकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के दिए निर्देश 

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें –  खबर सच है संवाददाता देहरादून। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने सख्त निर्देश दिए हैं कि राज्य में किसी भी बच्चे को किसी भी कारण से सरकारी स्कूल में दाखिले से मना करने वाले प्रधानाचार्य या शिक्षकों के खिलाफ प्रथम दृष्टया कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। साथ ही कहा कि राज्य […]

Read More