अच्छे संग से सुमति व बुरे संग से कुमति ही उत्पन्न होगी – श्री हरि चैतन्य महाप्रभु  

ख़बर शेयर करें -
गढीनेगी पधारने पर स्वामी श्री हरि चैतन्य महाप्रभु का हुआ भव्य व अभूतपूर्व स्वागत। 
खबर सच है संवाददाता 
गढीनेगी।  प्रेमावतार, युगदृष्टा, श्री हरि कृपा पीठाधीश्वर एवं विश्व विख्यात संत स्वामी श्री हरि चैतन्य पुरी जी महाराज ने आज यहां श्री हरि कृपा धाम आश्रम में उपस्थित विशाल भक्त समुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि जो आंखें विषय वासना, सांसारिक मोहमाया में फँसी है उन्हें परमात्मा नहीं दिखाई देते। जब संसार नहीं दिखता तो प्रभू दिखते हैं। सन्तों, शास्त्रों व अवतारों को मात्र अपनी कमियां छुपाने की ढाल ही ना बनाएँ। उनसे प्रेरणाएं, शिक्षाएँ  व उपदेश भी ग्रहण करके अपने जीवन में उतारकर जीवन को दैवत्व परिपूर्ण बनाए। विचार शील प्राणी कभी भी किसी भी हाल में धर्म व परमात्मा का साथ कदापि भी नहीं छोड़ता। यूं भी धैर्य, धर्म, मित्र व नारी इन चारों की परीक्षा विपत्ति के समय होती है। कब कौन सी बुद्धि उजागर हो जाए कोई कुछ कह नहीं सकता, हां अच्छे संग से सुमति व बुरे संग से कुमति ही उत्पन्न होगी।
उन्होंने कहा कि बुद्धिमान व्यक्ति कुछ भी बोलने, कार्य करने, संबंध बनाने व व्यवहार करने से पूर्व विचार करता है उसे सफलता मिलती है, लेकिन मूर्ख व्यक्ति बाद में विचार करता है। उसे पश्चाताप ग्लानि व उपहास का पात्र बनना पड़ता है। अपने विवेक को सदैव जागृत रखें। माता-पिता, गुरुजनों, शास्त्र, संस्कृति के प्रति श्रद्धा व आदर भाव रखें। एक मात्रा के अंतर से विशेष लाभ से वंचित ना रहे। हम माता-पिता, संतों, गुरुओं, शास्त्रों, ग्रंथों व अवतारों को माने। विभिन्न मतों, संप्रदायों में उपासना पद्धति चाहे अलग अलग हो लेकिन उद्देश्य सभी का एक ही है। मानव पर जगत व जगतपति दोनों का अधिकार है लेकिन मानव का इन पर अधिकार मानना अज्ञानता है। दूसरों को नुकसान पहुंचाने वाले का अपना ही नुकसान होता है। यदि दूसरा हमें नुकसान पहुंचाए तो हमें बचाव की स्थिति अपनाएं, आक्रमक दृष्टि ना होने दें। क्षमाशील बनें, क्षमा तो वीरों का आभूषण है। कामनाओं से बढ़कर दूसरा कोई शत्रु नहीं। आग्रह, दुराग्रह,संग्रह, परिग्रह, निग्रह इन पांचों ग्रहों के रहते प्रभु का अनुग्रह नहीं मिलता। इन पांचों से स्वयं विचारपूर्वक मुक्त हो सकते हैं, अन्य साधनों से नहीं। दूसरों के कर्तव्य पालन की चिंता ना कर के अपने कर्तव्य का पालन करें। दूसरों के बारे में सोचना ही है तो सर्वहितकारी चिंतन करें कि किसी के जीवन में अशांति वेदना दुख ना रहे।
इससे पूर्व यहाँ पहुँचने पर श्री महाराज जी का पूर्ण धार्मिक रीति से पुष्प वृष्टि करते हुए, फूल मालाएँ पहनाकर, आरती उतारकर हरि भक्तों ने भव्य व अभूतपूर्व स्वागत किया। 12 जून को परम पूज्य श्री महाराज जी का पावन प्राकट्योत्सव जन्मोत्सव हमेशा की भाँति भारत सहित सम्पूर्ण विश्व के 360 से भी अधिक स्थानों पर मनाया जाएगा। लेकिन श्री महाराज जी के पावन सानिध्य में 9-12 जून श्री हरि कृपा धाम आश्रम गढीनेगी काशीपुर उत्तराखंड में विराट धर्म सम्मेलन का आयोजन होगा।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 हमसे फेसबुक पर जुड़ने के लिए पेज़ को लाइक करें

👉 ख़बर सच है से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 हमारे पोर्टल में विज्ञापन एवं समाचार के लिए कृपया हमें [email protected] पर ईमेल करें या +91 97195 66787 पर संपर्क करें।

TAGS: Gadinegi news Good company will give birth to Sumati and bad company will give birth to Kumati - Sri Hari Chaitanya Mahaprabhu Sri Hari Chaitanya Mahaprabhu US nagar news Uttrakhand news

More Stories

शिक्षा-आध्यात्म

“तकनीक से सीखना: शिक्षा में नए कारण” 

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें – खबर सच है संवाददाता  (प्रस्तुतीकरण द्वारा डॉ भारत पाण्डे एवं डॉ सुरेन्द्र विक्रम पड़ियार) रुद्रपुर। आज की तेज़ डिजिटल दुनिया में, प्रौद्योगिकी ने हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बना लिया है, खासकर शिक्षा के क्षेत्र में। ऑनलाइन सीखने के प्लेटफॉर्म से लेकर इंटरैक्टिव एप्स तक, प्रौद्योगिकी ने विद्यार्थियों की […]

Read More
शिक्षा-आध्यात्म

योग्यता से अधिक महत्वकांक्षी नहीं होना चाहिए- श्री हरि चैतन्य महाप्रभु  

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें -खबर सच है संवाददाता रामनगर। सच्चा भाव ही सच्ची उपासना है। सच्चे हृदय से प्रेम व श्रद्धा पूर्वक की गई प्रार्थना को परमात्मा अवश्य ही सुनते हैं, चाहे व्यक्ति को वेद, शास्त्र, पुराणों का ज्ञान ना हो। आज हमारी, हमारे परिवार की देश की व समाज की जो दुर्दशा हो रही है […]

Read More
शिक्षा-आध्यात्म

सनातन धर्म का ना आदि है ना अंत- स्वामी श्री हरि चैतन्य महाप्रभु 

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें –  खबर सच है संवाददाता गढीनेगी पहुंचने पर हुआ स्वामी श्री हरि चैतन्य महाप्रभु का भव्य व अभूतपूर्व स्वागत  गढीनेगी। प्रेमावतार, युगदृष्टा, श्री हरि कृपा पीठाधीश्वर एंव विश्व विख्यात संत स्वामी श्री हरि चैतन्य पुरी जी महाराज ने यहाँ श्री हरि कृपा धाम आश्रम गढीनेगी में उपस्थित विशाल भक्त समुदाय को संबोधित […]

Read More