नई शिक्षा नीति 2020 और उच्च शिक्षा में परिवर्तन की दिशा – डॉ भारत पाण्डे 

ख़बर शेयर करें -
 
खबर सच है संवाददाता 
 
रूद्रपुर। भारत की नई शिक्षा नीति 2020 (NEP 2020) ने शिक्षा प्रणाली में व्यापक सुधारों का प्रस्ताव रखा है, विशेषकर उच्च शिक्षा में। यह नीति हमारे देश की शिक्षा व्यवस्था को 21वीं सदी की आवश्यकताओं के अनुसार ढालने का प्रयास है।
 
मुख्य बिंदु
 
1 बहु-विषयक शिक्षा
नई शिक्षा नीति का एक प्रमुख लक्ष्य है उच्च शिक्षा को बहु-विषयक बनाना। इसका मतलब है कि विद्यार्थियों को विभिन्न विषयों का अध्ययन करने की अनुमति होगी। अब छात्र अपनी रुचि और करियर के हिसाब से विज्ञान, कला, वाणिज्य, और अन्य क्षेत्रों के विषयों को एक साथ पढ़ सकते हैं। यह उनके लिए अधिक लचीलेपन और गहराई से अध्ययन करने के अवसर प्रदान करेगा।
 
2 ग्रेडेड स्वायत्तता
उच्च शिक्षा संस्थानों को अधिक स्वायत्तता देने का प्रस्ताव है। इसका उद्देश्य संस्थानों को अपने पाठ्यक्रम और प्रशासनिक नीतियों को स्वतंत्र रूप से तय करने की शक्ति देना है। इससे गुणवत्ता में सुधार और नवीनता को प्रोत्साहन मिलेगा।
 
3 उच्च शिक्षा आयोग
उच्च शिक्षा के नियमन के लिए ‘हायर एजुकेशन कमीशन ऑफ इंडिया’ (HECI) की स्थापना की जाएगी। यह आयोग गुणवत्ता और पारदर्शिता सुनिश्चित करेगा और उच्च शिक्षा संस्थानों की निगरानी करेगा। HECI चार अलग-अलग संस्थाओं के रूप में काम करेगा: नियामक, वित्त पोषण, मान्यता और अकादमिक मानकों के लिए।
 
4 ऑनलाइन शिक्षा और डिजिटल लर्निंग
NEP 2020 डिजिटल लर्निंग को बढ़ावा देता है,खासकर COVID-19 महामारी के दौरान इसकी आवश्यकता को देखते हुए। नीति के तहत ऑनलाइन कोर्स और वर्चुअल लर्निंग के अवसर बढ़ाए जाएंगे, जिससे छात्रों को कहीं भी, कभी भी शिक्षा प्राप्त करने की सुविधा मिलेगी।
 
5 समावेशी शिक्षा
शिक्षा में सभी को समान अवसर प्रदान करने पर जोर दिया गया है। नीति के तहत कमजोर और वंचित वर्गों के छात्रों को उच्च शिक्षा तक पहुंचाने के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। 
 
6 चार-वर्षीय स्नातक कार्यक्रम
NEP 2020 चार-वर्षीय स्नातक कार्यक्रम की शुरूआत का प्रस्ताव करता है, जिसमें छात्रों को शोध कार्य का विकल्प मिलेगा। इस कदम से छात्र न केवल अपने विषय में गहराई से ज्ञान प्राप्त कर सकेंगे, बल्कि उन्हें शोध कार्य के लिए भी तैयार किया जाएगा।
 
उच्च शिक्षा में सुधार के फायदे:
 
गुणवत्ता में सुधार
संस्थानों को स्वायत्तता देने से वे अपनी गुणवत्ता में सुधार कर सकेंगे और अपनी विशेषताओं को बढ़ावा दे सकेंगे।
 
व्यवसायिक शिक्षा
बहु-विषयक दृष्टिकोण छात्रों को विभिन्न क्षेत्रों में कौशल और ज्ञान अर्जित करने की अनुमति देगा, जिससे वे अधिक रोजगार योग्य बन सकेंगे।
 
डिजिटल लर्निंग 
ऑनलाइन शिक्षा से छात्रों को विश्व स्तर की शिक्षा प्राप्त करने का अवसर मिलेगा, चाहे वे कहीं भी हों।
 
समानता और समावेशिता
कमजोर और वंचित वर्गों के छात्रों को उच्च शिक्षा तक पहुंचाना सामाजिक न्याय की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है।
 
नई शिक्षा नीति 2020 उच्च शिक्षा में एक नया युग लाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। इसके तहत जो सुधार प्रस्तावित हैं, वे न केवल शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारेंगे, बल्कि इसे अधिक समावेशी और सुलभ बनाएंगे। यह नीति हमें वैश्विक प्रतिस्पर्धा में आगे बढ़ने और हमारे युवाओं को भविष्य के लिए बेहतर तरीके से तैयार करने में मदद करेगी। इस लेख का उद्देश्य नई शिक्षा नीति 2020 के माध्यम से उच्च शिक्षा में लाए जा रहे परिवर्तनों को उजागर करना है। यह नीति हमारे शैक्षिक परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित हो सकती है।
यह भी पढ़ें 👉  प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल महानगर हल्द्वानी इकाई की  कार्यकारिणी का हुआ विस्तार

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 हमसे फेसबुक पर जुड़ने के लिए पेज़ को लाइक करें

👉 ख़बर सच है से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 हमारे पोर्टल में विज्ञापन एवं समाचार के लिए कृपया हमें [email protected] पर ईमेल करें या +91 97195 66787 पर संपर्क करें।

TAGS: direction of change in higher education Dr. Bharat Pandey New Education Policy 2020 New Education Policy 2020 and direction of change in higher education - Dr. Bharat Pandey rudrapur news udham singh nagar news uttarakhand news

More Stories

उत्तराखण्ड

सवा करोड रूपये घोटाले का लेखाकार 17 साल बाद आया एसटीएफ के कब्जे में 

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें –      खबर सच है संवाददाता    देहरादून। एसटीएफ की आधुनिक तकनीक के साथ मैनुवल पुलिसिंग के सार्थक परिणाम पर सवा करोड रूपये घोटाले का लेखाकार 17 साल बाद एसटीएफ के कब्जे में आया है। दरगाह शरीफ पिरान कलियर के दस्तावेजों में हेराफेरी कर फरार अपराधी की गिरप्तारी पर 25 हजार […]

Read More
उत्तराखण्ड

रुद्रपुर में अतिक्रमण हटाने के दौरान पथराव की निंदा के साथ ही डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ ने चेतावनी दी कि बिना सुरक्षा के काम करने में रहेंगे असमर्थ

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें –      खबर सच है संवाददाता    हल्द्वानी। उत्तराखण्ड डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ की आपातकालीन बैठक में ऊधमसिंहनगर के रुद्रपुर में अतिक्रमण हटाने के दौरान पथराव की निंदा की गई। चेतावनी दी गई कि भविष्य में कर्मचारी-अधिकारी बिना सुरक्षा के काम करने में असमर्थ रहेंगे। इस संबंध में ऊधमसिंहनगर के जिलाधिकारी को […]

Read More
उत्तराखण्ड

काठगोदाम थाना क्षेत्र में देवखड़ी नाले में बहे युवक एवं बमेटा गांव के पुल के पास परिताल में डूबे जवान का मिला शव

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें –      खबर सच है संवाददाता    हल्द्वानी। हल्द्वानी के काठगोदाम थाना क्षेत्र में 11 जुलाई की रात्रि को देवखड़ी नाले में बहे युवक आकाश सिंह का शव जयपुर बीसा लालकुआ में मिल गया है। प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि पंचायत नामा पोस्टमार्टम की कार्यवाही की जा रही है।   वहीं […]

Read More