पाखरो टाइगर सफारी को लेकर एनजीटी ने पूर्व वन मंत्री और तत्कालीन डीएफओ कालागढ़ पर उठाए सवाल 

ख़बर शेयर करें -

 

खबर सच है संवाददाता

देहरादून। पाखरो टाइगर सफारी निर्माण के मामले में सुप्रीम कोर्ट की सेंट्रल इंपावर्ड कमेटी (सीईसी) के बाद नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूलन (एनजीटी) की कमेटी ने भी तत्कालीन वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत, तत्कालीन डीएफओ कालागढ़ किशनचंद समेत कई अन्य अफसरों पर भी सवाल उठाए हैं। इसके अलावा शासन के अधिकारियों को भी कठघरे में खड़ा किया है। 

कमेटी में शामिल तीन सदस्य देश के महानिदेशक वन चंद्र प्रकाश गोयल, एडीजी वाइल्ड लाइफ विश्वास रंजन और एडीजी वन्य जीव एसपी यादव ने अपनी रिपोर्ट प्रधान पीठ को सौंप दी है। कमेटी को पाखरो टाइगर सफारी के लिए पेड़ों के अवैध कटान के आरोपों की जांच करने और वहां पर्यावरण को दोबारा सुधारने के लिए सुझाव देने को कहा था। जिस पर कमेटी ने जांच के बाद अपनी रिपोर्ट में कहा कि वहां स्वीकृत 163 पेड़ से ज्यादा काटे गए हैं। इसके अलावा कई जगह बिना वित्तीय और पर्यावरणीय स्वीकृति के ही अवैध निर्माण कर दिए गए। इसके लिए कमेटी ने इस पूरे प्रकरण में शामिल अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ ही तत्कालीन वन मंत्री डॉ. हरक सिंह को भी जिम्मेदार बताया है। उन पर बिना स्वीकृतियों के परियोजना को वित्तीय व अन्य तरह के अनुमोदन देने का आरोप है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट की सेंट्रल इंपावर्ड कमेटी भी तत्कालीन वन मंत्री और डीएफओ किशनचंद को मुख्य रूप से जिम्मेदार ठहरा चुकी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकारी नियमों और विनियमों का पूरी तरह से उल्लंघन करते हुए हर संभव तरीके से काम करवाने में अति कर रहे थे। ऐसे अधिकारियों और व्यक्तियों के खिलाफ अनुशासनात्मक और कानूनी कार्रवाई की जानी की संस्तुति की गई है। खास बात यह है कि इस रिपोर्ट में तत्कालीन प्रमुख वन संरक्षक (हॉफ) और तत्कालीन पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ का कहीं जिक्र नहीं किया गया है। बताते चलें कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट के वकील गौरव बंसल ने पहली बार दिल्ली हाईकोर्ट में उठाया था। इसके बाद एनजीटी ने इसका स्वतः संज्ञान लिया था। पूर्व वन मंत्री डॉ हरक सिंह रावत का कहना है कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट सुनवाई शुरू कर चुका है। अब इस रिपोर्ट का कोई मायने नहीं है। पाखरो परियोजना गढ़वाल के विकास के लिहाज से बहुत अच्छी योजना थी। कुछ लोगों ने इसे वेबजह मुद्दा बना दिया है। प्रोजेक्ट की सभी मंजूरियां नियमों के तहत ही दी गई हैं।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 हमसे फेसबुक पर जुड़ने के लिए पेज़ को लाइक करें

👉 ख़बर सच है से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 हमारे पोर्टल में विज्ञापन एवं समाचार के लिए कृपया हमें [email protected] पर ईमेल करें या +91 97195 66787 पर संपर्क करें।

TAGS: dehradun news NGT raised questions on former Forest Minister and then DFO Kalagarh regarding Pakharo Tiger Safari Uttrakhand news

More Stories

उत्तराखण्ड

उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुख्य मीडिया समन्वयक ने प्रदेश की पांचों लोकसभा सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों के समर्थन पर किया जनता का आभार व्यक्त

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें – खबर सच है संवाददाता देहरादून। उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुख्य मीडिया समन्वयक राजीव महर्षि ने प्रदेश की पांचों लोकसभा सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों का समर्थन करने वाले सभी मतदाताओं, नागरिकों, निर्वाचन में लगे कार्मिकों और तमाम पार्टीजनों का शांतिपूर्वक निर्वाचन संपन्न करवाने पर आभार व्यक्त किया है।   महर्षि ने कहा […]

Read More
उत्तराखण्ड

पत्नी की निगरानी और पति ताला तोड़ करता था चोरी, पुलिस ने चोरी के सामान के साथ पकड़ भेजा सलाखों के पीछे

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें – खबर सच है संवाददाता लालकुआं। यहां कोतवाली पुलिस ने चोरी का खुलासा करते हुए बंटी-बबली को गिरफ्तार किया है। जिनके कब्जे से चोरी के जेवरात और अन्य समाज बरामद किया है। पुलिस क्षेत्राधिकारी लाल कुआं संगीता ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि हल्दूचौड़ निवासी हेमचंद्र जोशी ने 4 मार्च […]

Read More
उत्तराखण्ड

दरिंदगी की हद पार! सौतेली मां ने बेटी की बर्बरता पूर्वक हत्या कर शव दबाया गड्डे में, पुलिस ने आरोपी महिला को लिया हिरासत में  

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें – खबर सच है संवाददाता काशीपुर। यहां एक सौतेली मां ने अपनी आठ वर्षीय बेटी की बर्बरता पूर्वक हत्या कर उसका शव घर के सामने एक खाली मकान में गड्ढा खोदकर दबा दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने के साथ ही आरोपी महिला को हिरासत में […]

Read More