“तकनीक से सीखना: शिक्षा में नए कारण” 

ख़बर शेयर करें -
खबर सच है संवाददाता 
(प्रस्तुतीकरण द्वारा डॉ भारत पाण्डे एवं डॉ सुरेन्द्र विक्रम पड़ियार)
रुद्रपुर। आज की तेज़ डिजिटल दुनिया में, प्रौद्योगिकी ने हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बना लिया है, खासकर शिक्षा के क्षेत्र में। ऑनलाइन सीखने के प्लेटफॉर्म से लेकर इंटरैक्टिव एप्स तक, प्रौद्योगिकी ने विद्यार्थियों की शिक्षा करने और शिक्षकों को सिखाने के तरीके को क्रांतिकारी बना दिया है। इस लेख में, हम उन विभिन्न तरीकों पर विचार करेंगे जिन से प्रौद्योगिकी विद्यार्थियों के लिए शिक्षा पर असर डाल रही है।
शिक्षा में प्रौद्योगिकी का सबसे महत्वपूर्ण लाभ वह उपयुक्तता है जिसे यह विद्यार्थियों को प्रदान करती है। ऑनलाइन सीखने के प्लेटफॉर्म और ई-बुक्स के उत्थान के साथ, विद्यार्थी अब दुनिया के किसी भी कोने से शैक्षणिक संसाधनों का उपयोग कर सकते हैं। यह उन विद्यार्थियों के लिए अवसरों का एक संसार खोलता है जिन्हें अन्यथा गुणवत्ता शिक्षा का पहुंच नहीं होता है।शिक्षा में प्रौद्योगिकी का एक और लाभ यह है कि छात्रों के लिए अनुभवों को व्यक्तिगत बनाने की क्षमता है। एडेप्‍टिव लर्निंग सॉफ्टवेयर और ऑनलाइन मूल्यांकन के उपयोग से शिक्षक अब प्रत्येक छात्र की व्यक्तिगत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पाठ समाधान कर सकते हैं। यह सुनिश्चित करता है कि छात्र अपनी खुद की गति पर चुनौती प्राप्त करते हैं और उनकी प्रगति पर तुरंत प्रतिक्रिया प्राप्त कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त, प्रौद्योगिकी ने विद्यार्थियों के बीच सहयोग करना सबसे आसान बना दिया है। वर्चुअल क्लासरूम और ऑन लाइन समूह परियोजनाओं के उत्थान के साथ, विद्यार्थी अब अपने भौतिक स्थान से ऊपर कार्य कर सकते हैं। यह न केवल दल काम और संचार कौशल को प्रोत्साहित करता है बल्कि विद्यार्थियों को नए और नवीनतम तरीकों में काम करने के लिए भी तैयार करता है। हालांकि शिक्षा में प्रौद्योगिकी के लाभों के बावजूद, इसके संभावित कमियों के संदेह भी है। एक सामान्य आलोचना यह है कि प्रौद्योगिकी विद्यार्थियों के बीच मुख-मुख मामलों की कमी की ओर ले जा सकती है। हालांकि यह एक मान्य चिंता है, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि प्रौद्योगिकी लोगों के बीच संवाद, सहयोग और जुड़ाव को नए और नवाचारी तरीकों में बढ़गढ़ कर सकती है।
सम्पूर्णत: आज की तकनीकी विकास और शिक्षा का प्रभाव छात्रों पर असरदार है। इसलिए, सही उपयोग करने के लिए शिक्षकों को छात्रों को कल के लिए तैयार करने के लिए उन्हें तैयार करना जरूरी है।
यह भी पढ़ें 👉  दो दिन से लापता शारदा रेंज के वन दरोगा का मिला शव, पुलिस ने भेजा पोस्टमार्टम को

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 हमसे फेसबुक पर जुड़ने के लिए पेज़ को लाइक करें

👉 ख़बर सच है से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 हमारे पोर्टल में विज्ञापन एवं समाचार के लिए कृपया हमें [email protected] पर ईमेल करें या +91 97195 66787 पर संपर्क करें।

TAGS: "Learning from Technology: New Reasons in Education" rudrapur news US nagar news

More Stories

उत्तराखण्ड शिक्षा-आध्यात्म

विश्व प्रसिद्ध संत बाबा नीब करोली के दर्शन को उमड़ा भक्तों का सैलाब 

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें –    खबर सच है संवाददाता      भवाली। हनुमान जी के परम भक्त और उनके अवतार माने जाने वाले नीब करोली बाबा विश्व के प्रसिद्ध संतों में से एक है। मान्यता है कि नीम करोली बाबा को हनुमान जी की उपासना से अनेक चमत्कारिक सिद्धियां प्राप्त थीं। नीब करोली बाबा के […]

Read More
उत्तराखण्ड शिक्षा-आध्यात्म

चार दिवसीय विराट जन्मोत्सव कार्यक्रम के सम्पन्न होने पर महाराज श्री ने हरि भक्तो को प्रेषित किया आशीर्वाद

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें –    खबर सच है संवाददाता    गढीनेगी। श्री हरि कृपा धाम आश्रम गढीनेगी काशीपुर में आयोजित चार दिवसीय विराट जन्मोत्सव कार्यक्रम के साथ ही परम पूज्य श्री महाराज जी का पावन अवतरण दिवस देश व विदेशों में क़रीब 380 स्थानों पर बहुत ही धूमधाम से मनाया गया। श्री हरि कृपा धाम आश्रम […]

Read More
उत्तराखण्ड शिक्षा-आध्यात्म

अपने देश की अमूल्य व महान संस्कृति को समझें व अपनाए – श्री हरि चैतन्य महाप्रभु 

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें –    खबर सच है संवाददाता    विराट धर्म सम्मेलन में उमड़ा भक्तों का अपार जन सैलाब उमड़ा   गढीनेगी। श्री हरि कृपा पीठाधीश्वर एवं भारत के महान सुप्रसिद्ध युवा संत श्री श्री 1008 स्वामी श्री हरि चैतन्य पुरी जी महाराज ने आज यहाँ  श्री हरि कृपा धाम आश्रम में उपस्थित विशाल […]

Read More