प्रवर्तन निदेशालय के चंगुल में फंसे हरियाणा के दो सबसे अमीर नेता

ख़बर शेयर करें -


खबर सच है संवाददाता

हरियाणा। यहां सोनीपत से कांग्रेस के विधायक सुरेंद्र पंवार, पूर्व आईएनएलडी विधायक दिलबाग सिंह और कुछ अन्य के 20 ठिकानों पर पिछले 24 घंटे से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की छापेमारी जारी है। ईडी की टीम को दिलबाग सिंह के घर से बड़ी मात्रा में कैश और सोना, साथ ही अवैध हथियार मिले हैं। दरअसल, ईडी के अधिकारी अवैध खनन से जुड़े मामले में जानकारी जुटा रहे हैं।

बताया गया है कि ईडी के अधिकारी कल सुबह करीब 8 बजे कांग्रेस विधायक पंवार व दिलबाग सिंह के घर पहुंची थी। उनकी टीम ने अलग-अलग 5 गाड़ियों में सीआईएसएफ के जवानों के साथ छापा मारा। ये कार्रवाई प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट(पीएमएलए) के तहत की गई है। हालांकि ईडी की कार्रवाई को लेकर अभी तक दोनों नेताओं का कोई भी बयान सामने नहीं आया है और न ही कांग्रेस व आईएनएलडी ने प्रतिक्रिया दी है।

ईडी ने शुक्रवार को बताया है कि दिलबाग सिंह और उनके सहयोगियों के ठिकानों से अवैध विदेशी हथियार मिले हैं। इसके अलावा 300 कारतूस, 100 से अधिक शराब की बोतलें और 5 करोड़ नकद कैश, साढ़े चार किलो सोना बरामद किया गया है। वहीं, देश और विदेश में कई संपत्तियां मिली हैं, जिनकी अभी तक किसी को भनक तक नहीं लगी थी। सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस विधायक सुरेंद्र पंवार के आवास से भी ईडी के अधिकारियों को कुछ अहम सबूत हाथ लगने की आशंका है। ईडी ने राज्य के करनाल, यमुनानगर, फरीदाबाद के साथ साथ चंडीगढ़ और मोहाली भी छापेमारी की है। अवैध खनन मामले में कोर्ट के आदेश के बाद इस मामले में ईडी ने एक एफआईआर दर्ज की थी। मनी लॉन्ड्रिंग का मामला हरियाणा पुलिस की कई FIR से जुड़ा हुआ है। बताया गया है कि FIR पट्टा समाप्ति अवधि और कोर्ट के आदेश के बाद भी यमुनानगर और आसपास के जिलों में हुए बोल्डर, बजरी और रेत के कथित अवैध खनन की जांच के लिए दर्ज की गई थीं। इसके अलावा केंद्रीय एजेंसी ‘ई-रावण’ योजना में कथित धोखाधड़ी की भी जांच कर रही है। इस ऑनलाइन पोर्टल को हरियाणा सरकार की ओर से साल 2020 में लाया गया था। इसका मकसद रॉयल्टी और टैक्स के संग्रह को आसान बनाने और खनन क्षेत्रों में टैक्स चोरी को रोकना था।

2019 के विधानसभा चुनावों में पंवार ने सोनीपत से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ा था। उन्होंने बीजेपी की उम्मीदवार कविता जैन को 32,000 से अधिक वोटों के अंतर से हराया था, जबकि इनेलो के दिलबाग सिंह यमुनानगर में बीजेपी के घनश्याम दास से 1,400 से अधिक मतों के अंतर से हारे थे। खास बात ये है कि 2019 के विधानसभा चुनावों में पंवार और दिलबाग सिंह दोनों हरियाणा के सबसे अमीर उम्मीदवारों में से एक थे। जहां पंवार ने कुल 27 करोड़ रुपए की संपत्ति घोषित की थी, वहीं दिलबाग ने 34 करोड़ रुपए की संपत्ति घोषित की थी।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 हमसे फेसबुक पर जुड़ने के लिए पेज़ को लाइक करें

👉 ख़बर सच है से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 हमारे पोर्टल में विज्ञापन एवं समाचार के लिए कृपया हमें [email protected] पर ईमेल करें या +91 97195 66787 पर संपर्क करें।

TAGS: Enforcement Directorate news Haryana news Two richest leaders of Haryana trapped in the clutches of Enforcement Directorate

More Stories

हरियाणा

आरोपी खुलेआम मीडिया में इंटरव्यू देते हुए देश की बेटियों पर लांछन लगा रहा लेकिन मेडल लेकर आई बेटियां सड़कों पर बैठी हैं – विनेश फोगाट  

ख़बर शेयर करें -

ख़बर शेयर करें -खबर सच है संवाददाता जींद। महिला पहलवान विनेश फोगाट ने गुरुवार को कहा कि जब वह मेडल लेकर आई थीं तो लगा था कि यहां बेटियों की बहुत इज्जत होती है, लेकिन अब यह हाल है कि वे सड़कों पर बैठी हैं और कोई सुध नहीं ले रहा है। विनेश यहां जींद-नरवाना नेशनल […]

Read More